किसान भारतीय यूनियन (अजगर) ने गाजियाबाद परिवहन मुख्यालय पर दिया धरना प्रदर्शन

मनीष सूर्यवंशी( वीर सूर्या टाइम्स )

उत्तर प्रदेश के जिला गाजियाबाद परिवहन मुख्यालय आरटीओ व एआरटीओ कार्यालयों में भ्रष्टचार अपने चरम पर है। सरकार के इन कार्यालयों में बिना दलाल के वाहन सम्बन्धी कोई भी कार्य नहीं किए जाते हैं। दलाल और आरटीओ कार्यालय के अधिकारियों के बीच बन चुके सिंडिकेट से प्रदेश सरकार को भारी राजस्व के साथ आम जनता के जीवन से भी खिलवाड़ किया जा रहा है जो चिंता का विषय है।जिससे आरटीओ गाजियबाद में स्वच्छ भारत अभियान चलाया जा सकें अन्यथा संगठन अनिश्चितकालीन समय के लिए कलेक्टोरेट का घेराव करेगा। सचिन शर्मा ने कहा अगर माँग नही मानी गई तो चक्का जाम कर दिया जाएगा ।

आरटीओ विभाग में मौजूद भ्रष्टाचार के कारण जनपद गाजियाबाद में बड़े पैमाने पर डग्गामारी बसों का संचालन किया जाता है जिससे शहरों के लिए चलाई जा रही ई बसों के राजस्व में कमी और दुर्घटनाओं में बढ़ोतरी हो रही है जिसे तुरंत बंद करवाया जाए।
वाहन संबन्धी खासतौर पर ऑटो परमिट रिन्यू कराने गाड़ी ट्रांसफर इतियादी से लेकर वाहन से संबंधित कार्यों के लिए 10000 से 50000 तक की रिश्वत जनपद गाजियाबाद के आरटीओ कार्यालय से ली जाता है।

दलालों के माध्यम से ड्राइविंग लाइसेंस 5 से 10 हजार रुपये के बीच बिना किसी टेस्ट दिये ही बनवाये जा रहे है। वहीं अन्य आवेदकों को ड्राइविंग टेस्ट की लंबी तारीख दे दी जाती है जबकि दलाल आपको मनपसंद तारीख तुरंत उपलब्ध करवा देते हैं। इसके अतिरिक्त आरटीओ ऑफिस के बाबू लोगों को परेशान कर रिश्वत वसूलने के उद्देश्य से युवाओं से डीएल बनवाने के नाम पर कंप्यूटर के सामने गलत इंडिकेशन लगवा कर उनका लाइसेंस निरस्त कर देते हैं

गाजियाबाद में हाईवा-डंपर बेलगाम और मौत का सामान बनकर दौड़ रहे है जिन्हें रोकने वाला कोई नहीं है। मंजूरी से ज्यादा सामग्री ले जा रहे हैं जो बिना चेकिंग के बदस्तूर चल रहे हैं शहर की सड़कों पर लगे सीसीटीवी से इसकी पुष्टि की जा सकती है।

गाजियाबाद जिले में वाहनों की फिटनेस की जांच खासतौर पर गाजियाबाद के सभी स्कूलों की बसों का सर्टिफिकेट जारी करने में खुलेआम प्राइवेट दलालों द्वारा भारी भरकम रकम ली जा सकती है। इसके अतिरिक्त फिटनेस सर्टिफिकेट जारी करने का ठेका एक निजी कंपनी को दिया गया, निजी कंपनी को ठेका देने में सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवमानना की है।

लक्जरी बसों में यात्रियों के भारी सामान का कोई बिल बाउचर नहीं बनाया जाता जिससे बड़े पैमाने पर राजस्व की क्षति होती है। इन बसों में रोजाना चोरी छुपे कई पिकअप माल छुपा कर लाया जाता है। ऐसे में ये गाड़ियां ओवर लोड हो जाती है जिसके चलते पिछले दिनों कई ऐसी अप्रिय घटना घटित हो चुकी है।

धरने की अध्यक्षता गजन यादव की
मंच संचालन अतुल यादव ने किया और कहा युवा भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ लड़ने लिए सड़को पर उतरने को तैयार है ।
राजेश उपाध्य ज़िला अध्यक्ष गौतम बुद्ध नगर ने कहा नोएडा में भ्रष्टाचार चर्म पर इसको रोकने के हम जी जान लगा देंगे ।
शर्मा यादव राष्ट्रीय सचिव ने कहा अधिकारी होश आ जाए वरना किसान के पास डंडा भी है ।

इस मोके पर हरवीर नागर नरेश चपर गढ़,राकेश कसाना,धर्मवीर यादव राहुल यादव, सुरेंद्र राणा, अशोक चौधरी,अरुण सौरभ चंदेला,सुभाष प्रजापति,उधम नागर प्रधान , दयाराम यादव , सतीश यादव ,संजय यादव , पीतम यादव , कोशिंदर यादव ,इंद्रजीत प्रधान महेश कसाना,भोला जनरल गाजी अनिवर्या,सैफी हाजी अब्दुल जाकिर गाजी नरेश पंडित, धर्मपाल फौजी, मनोज तेवतिया, विनीत यादव निखिल यादव,गोराव यादव,केहर अली,अखलेश कुमार, सुरेंदर चौधरी, विकास बिधूड़ी,अनिल शर्मा आदि सैकड़ों लोग उपस्थित रहे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *