9 वा अंतराष्ट्रीय योग दिवस मंडोली जेल परिसर 139 वीं वाहिनी के.रि.पु बल में योग दिवस मनाया गया।

रविंद्र कुमार ( वीर सूर्या टाइम्स )
योग हमारी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है। यही वजह है कि लोग इसे लगातार अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना रहे हैं। योग शारीरिक ही नहीं, बल्कि मानसिक तौर पर कई सारे फायदे पहुंचाता है। योग की इसी अहमियत को देखते हुए हर साल 21 जून को विश्व योग दिवस मनाया जाता है। यह दिन खासतौर पर योग से होने वाले कई लाभों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के मकसद से मनाया जाता है। योग एक प्राचीन अभ्यास है, जिसकी उत्पत्ति 5 हजार वर्ष पहले भारत में ही हुई थी और इसने अपने शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक लाभों के लिए दुनिया भर में लोकप्रियता हासिल की है।
इसी कड़ी में आज 9 वे अंतराष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष में उत्तर पूर्वी जिला स्थित मंडोली जेल परिसर में 139 वी वाहिनी के.रि.पु बल ( सीआरपीएफ) नई दिल्ली द्वारा अंतराष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया। इस योग दिवस में 139 वी वाहिनी के री पु बल के कमांडेंट श्रीमान अनिल कुमार ,दितीय कमांडेड पी के भारती, असिस्टेंट कमांडेंट दीपक ,अवधेश, विनोद, मनोहरी ,हरीश, डिप्टी कमांडेंट वीरेंद्र कुमार, सीएमओ राकेश कुमार, सूबेदार मेजर एस के प्रसाद, वीरेंद्र कुमार, एसआई शत्रुघ्न कुमार मौर्य एवं सभी कार्मिक गण सभी अधिकारी और जवान व उनके परिवार द्वारा योग कर योग दिवस को मनाया गया।

योग आसन शरीर, मन और आत्मा को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। शरीर और मन को शांत करने के लिए यह शारीरिक और मानसिक अनुशासन का एक संतुलन बनाता है। योग तनाव और चिंता का प्रबंधन करने में भी सहायक है। योग आसन शक्ति, शरीर में लचीलेपन और आत्मविश्वास विकसित करने के लिए जाना जाता है। 139 वी वाहिनी के.रि.पु बल बटालियन कमांडेंट श्रीमान अनिल कुमार ने अंतराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर मीडिया से बात करते हुए बताया आज पूरा विश्व योग दिवस मना रहा है जिसके चलते हमने भी जेल परिसर में योग दिवस मनाया इस योग दिवस में RAF , ITBP, CRPF, दिल्ली पुलिस के जवानों के साथ आम नागरिकों ने भी योग कर अपने शरीर को स्वस्थ बनाने का प्रण लिया। में सभी को शुभकामनाएं देता हूं कि आप अपने जीवन में योग अवश्य अपनाएं क्योंकि योग एक ऐसा आयाम है जिससे हम अपने शरीर में पनप रही सभी बीमारियों से छुटकारा पा सकते हैं साथ ही साथ आने वाले पीढ़ी को भी इस योग से काफी कुछ देकर जा सकते हैं आशा करते हैं यह केवल एक दिन में ही न सिमट के रहे बल्कि सभी लोग इसको अपने जीवन में उतारकर स्वस्थ जीवन की कामना करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *